Breaking News
  • उत्तराखंड के उत्तरकाशी में सड़क हादसा, 14 की मौत, 13 अन्य घायल
  • हरियाणा में पीएम मोदी, कुंडली-मानेसर-पलवल वेस्टर्न एक्सप्रेस-वे और बल्लभगढ़ मेट्रो लिंक का उद्घाटन
  • विश्व शौचालय दिवस: हर साल 19 नवंबर को मनाया जाता है

अगर 56 इंच का सीना हैं तो अयोध्या पर अध्यादेश लाकर दिखाएं सरकार : ओवैसी

उ. प्र. : एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद राममंदिर का मामला गरमाता जा रहा हैं। एक तरफ जहां कुछ विपक्षी नेता बीजेपी सरकार को ललकार रहीं हैं वहीं कुछ नेता धीमे स्वर सुप्रीम कोर्ट के इस निर्णय की आलोचना कर रहें है। आपको बता दें कि आज यानी सोमवार को रामजन्मभूमि पर सुनवाई होनी थी। जिसकी सुनवाई चीफ जस्टिस रंजन गोगोई एवं तीन पीठ की बैंच कर रहीं थी। इस मामले पर सुनवाई के महज तीन मिनट बाद ही चीफ जस्टिस गोगोई ने इसे तीन महीने के लिए टाल दिया और अगली तिथि 29 जनवरी तय की गई। गोगोई ने कहा कि इस मसले पर अर्जेंट सुनवाई नहीं हो सकती, जबकि यह मामला सुप्रीम कोर्ट में पिछले 8 सालों से लंबित है।

महज 3 मिनट के सुनवाई में ही, 3 महीने के लिए टला रामजन्भूमि की सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट के इस निर्णय के बाद AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने केंद्र सरकार को चुनौती देते हुए कहा कि, ‘अगर सरकार के पास 56 इंच का सीना हैं तो वह इस मसले पर अध्यादेश लाकर दिखाएं। प्रेस को संबोधित करते हुए ओवैसी ने कहा कि कोर्ट शुरू से कह रहा है ये टाइटल सूट है। अब जब चीफ जस्टिस की बेंच ने कह दिया है कि जनवरी में अगली सुनवाई होनी, तो किसी तरह का सवाल नहीं होना चाहिए।‘ वहीं ओवैसी ने केंद्र सरकार पर चुटकी लेते हुए कहा कि, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गिरिराज सिंह को अटॉर्नी जनरल बना दीजिए और वो सीजेआई के सामने कहेंगे कि हिंदुओं का सब्र टूट रहा है।‘ उन्होंने कहा कि ‘अध्यादेश के नाम पर कब तक अयोध्या मामले पर डराएगी बीजेपी।‘

आतंकियों ने की सीआईडी अधिकारी की निर्मम हत्या, शव बरामद

हिंदू महासभा के स्वामी चक्रपाणी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में श्रीराम मन्दिर का केस जनवरी तक लंबित होने के कारण अब मोदी सरकार तत्काल कानून बनाना चाहिए। वहीं उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि, ‘सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर वह कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते हैं, लेकिन ये अच्छा संकेत नहीं है।‘ मामले में पक्षकार निर्मोही अखाड़े के वकील रजीत लाल ने कहा कि इस मामले में अध्यादेश काम नहीं कराएगा। ऐसी उम्मीद लगाई जा सकती है कि फाइनल सुनवाई मई से शुरू होगी। रंजीत ने कहा कि इस मसले पर राजनीति बंद हो जाए तो मुस्लिम जमीन देने के लिए तैयार हैं।

अभिनेत्री श्रुति हरिहरन ने इस अभिनेता पर लगाया आरोप, कहा-उसने मेरी कमर पर हाथ..

loading...