Breaking News
  • उत्तराखंड के उत्तरकाशी में सड़क हादसा, 14 की मौत, 13 अन्य घायल
  • हरियाणा में पीएम मोदी, कुंडली-मानेसर-पलवल वेस्टर्न एक्सप्रेस-वे और बल्लभगढ़ मेट्रो लिंक का उद्घाटन
  • विश्व शौचालय दिवस: हर साल 19 नवंबर को मनाया जाता है

बड़ी खबर : अमृतसर में बड़ा ट्रेन हादसा, 61 की मौत , 150 घायल, अधिकतर यूपी और बिहार के

पंजाब : चारों तरफ हंसी-खुशी माहौल था लोग एक-दूसरे के साथ मजे कर रहें थे। तभी अचानक बचाओ-बचाओ, भागो-भागो की चिल्लाहट और रूदन मच गई। आखिर ऐसा क्या हुआ था। दरअसल यह बात पंजाब के अमृतसर की है जहां लोग रावण वध देखने गए थे। जहां रावण का दहन हो रहा था, उसके नजदीक ही रेलवे लाईन थी, लोग रावण वध को देखने में इस कदर मग्न थे कि उन्हें ये आभास भी नहीं था कि वे कहां खड़े है। तभी दो विपरीत दिशा से आती हुई ट्रेन  उन सभी को इस तरह रौंद कर चल दी जैसे कि वो कोई वस्तु है।

धोखेबाजी और जालसाजी के आरोप में फंसी ‘कांग्रेसी बहू’, कोर्ट ने दिया ‘ढिंढोरा’ पिटवाने का आदेश

आपको बता दें कि यह हादसा अमृतसर के जौड़ा फाटक के पास हुई है। खबरों की माने तो इस घटना में करीब 61 लोगों की मौत और 110 लोगों के घायल होने की सूचना है। मरने वालों की संख्या में और बढोतरी होने की संभावना है। बता दें कि इस घटना में अधिकतर लोग यूपी और बिहार के है जो कि इस हादसे का शिकार हुए है। जख्मी हुए लोगों का तरणतारण, जालंधर, गुरदासपुर और अमृतसर में इलाज चल रहा है। इनमें से कई की हालत गंभीर बताई जा रही है।

अमेरिका के ‘वार’ से चीन हुआ परेशान, 9 साल में सबसे...

इस बड़े हादसे के बाद ये सवाल उठना लाजिमी है कि इस दर्दनाक हादसे के पीछे जिम्मेदार कौन है। आपको बता दें कि प्रशासन से रावण दहन की अनुमति नहीं ली गई थी। इसका आयोजन कांग्रेस के पार्षद ने मिट्ठू मदान ने बिना अनुमति के कराया था। यहां कई बड़े नेता मौजूद थे लेकिन दूसरी तरफ छोटे और तंग जगह में नेताओं के आने के बाद भी सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम नहीं किए गए थे। सबसे बड़ा सवाल ये हैं कि जब भारी भीड़ थी तो रेलवे को इस बात की जानकारी क्यों नहीं दी गई?

# MeToo से सेव रहने के लिए अब कंपनियां ले रहें हैं ये इंश्योरेंस, उत्पीड़न के आरोपों से...

स्थानिय लोगों के अनुसार अगर लाइन मैन रेलवे फाटक बंद होता तो ये हादसा नहीं होता। लोगों ने स्टेशन मास्टर को भी इस हादसे का दोषी माना है। विपक्ष की तरफ से भी इस बात को उठाया गया है कि जहां पार्षद और बड़े नेता वहां मौजूद थे तो प्रशासन की ओर से व्यवस्था का इंतजाम क्यों नहीं किया गया।

loading...