Breaking News
  • बिहार : निर्दलीय विधायक अनंत सिंह को 2 दिन की ट्रांजिट रिमांड पर भेजा गया
  • आज दोपहर 2.30 बजे होगा निगमबोध घाट पर जेटली का अंतिम संस्कार
  • पूर्व वित्त मंत्री अरूण जेटली का निधन, बीजेपी मुख्यालय में अंतिम दर्शन
  • पीएम मोदी ने दी बहरीन में पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली को श्रद्धांजलि

मौत के बाद भी क्यों याद आएंगी शीला दीक्षित, 81 साल की उम्र में चल बसीं...

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली राज्य की लगातार तीन बार मुख्य मंत्री रही शीला दीक्षित का निधन हो गया। लंबे समय से बिमार चल रहीं भारतीय राजनीति की दिग्गज, 81 साल की शीला दीक्षित का निधन शनिवार को एस्कॉट अस्पताल में हुआ, जहां उन्हें इलाज के लिए भर्ती कराया गया था। कांग्रेस पार्टी की वरिष्ठत्म नेताओं में से एक शीला मौजूदा समय में दिल्ली कांग्रेस की अध्यक्ष थी। उनके निधन पर दिल्ली समेत देशभर में शोक की लहर है।

केरल राज्यपाल के तौर पर अपनी सेवाएं दे चुकी शीला दीक्षित देश की पहली ऐसी महिला मुख्यमंत्री थीं जिन्होंने लगातार तीन बार मुख्यमंत्री पद संभाला। वह 17 दिसंबर,2008 में लगातार तीसरी बार दिल्ली विधान सभा के लिये चुनी गई। हालांकि 2013 में हुए विधान सभा चुनाव में अरविंद केजरीवाल के खिलाफ शीला समेत पूरी कांग्रेस पार्टी को मुहं की खानी पड़ी।

दिल्ली की दूसरी महिला मुख्यमंत्री के तौर पर देश भर में मशहूर शीला दीक्षित को कांग्रेस पार्टी ने 2017 के उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव में भी मुख्यमंत्री पद लिये उम्मीदवार घोषित किया था, लेकिन इसके बाद  भी पार्टी के कुछ खास सफलता नहीं आई। 31 मार्च 1938 को पंजाब के कपूरथला में जन्मी शीला दीक्षित दिल्ली के अलावा केंद्र की राजनीति में भी अहम पदों पर काबिज रह चुकी हैं।

1986 से 1989 तक केंद्र में मंत्री रही शीला दीक्षित संसदीय कार्यों की राज्य मंत्री और फिर प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री भी रह चुकी हैं। महिला उत्थन के लिये किए अथक प्रयासों और समाज में महिलाओं को पुरुषों के मुकाबले बराबरी का दर्जा दिलाने वाले योगदानों के लिए शीक्षा को भारतीय राजनीति के ऐसिहासिक सुहरे पन्नों में हमेशा याद किया जाएगा।

loading...