Breaking News
  • चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने सुप्रीम कोर्ट में आज चार नए जजों को दिलाई शपथ
  • ह्यूस्टन में हाउडी मोदी कार्यक्रम की सफलता पर भड़का पाकिस्तान
  • आर्मी चीफ बिपिन रावत का बयान, पाकिस्तान ने बालाकोट में आतंकी कैंपों को फिर से सक्रिय कर दिया है
  • गृह मंत्री ने कहा कि कहा कि 2021 की जनगणना में मोबाइल एप का प्रयोग होगा

... मैं अध्यक्ष के रूप में काम नहीं करना चाहता, CWC ने दे दी जिम्मी ...

नई दिल्ली : कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) की बैठक में राहुल गांधी ने कहा कि, ‘गांधी परिवार से अगला अध्यक्ष ना हो। साथ ही प्रियंका गांधी का भी नाम अध्यक्ष पद के लिए ना प्रस्तावित किया जाए। मैं कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में काम नहीं करना चाहता, मैं पार्टी के लिए काम करना चाहता हूं।‘ जिसके बाद CWC ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के इस्तीफे की पेशकश को खारिज कर दिया। हालांकि CWC के इस निर्णय के समय राहुल अपने बहन प्रियंका के साथ इस मीटिंग से बाहर बाहर जा चुके थे।

जिसके बाद मीटिंग में मौजूद सभी सदस्यों ने राहुल को एक सुर में अध्यक्ष पद से इस्तीफा न देने की बात कहीं। सूत्रों की मानें तो उन्होंने कहा कि विपक्ष में मात्र आप ही एक ऐसे शख्स है जो नरेंद्र मोदी के सामने खड़े हो सकते है। हालांकि राहुल के इस पेशकश पर पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी समझाया। मनमोहन ने कहा कि आप इस्तीफा न दें। हार जीत तो लगी ही रहती है। इन सब बातों से मानों कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इस लोकसभा चुनाव से पूरी तरह टूट गए है। लेकिन कांग्रेस ने एक बार फिर यह जिम्मा राहुल गांधी को सौप दिया।   

 

इस मीटिंग में कांग्रेस के कई दिग्गज नेता उपस्थित थे जो हार पर मंथन करने के लिए इकट्ठा हुए। इस बैठक में हिस्सा लेने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, मल्लिकार्जुन खड़गे, गुलाम नबी आजाद, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह शामिल थे।

आपको बता दें कि इस बार भी कांग्रेस का हाल वहीं है जो पिछले बार लोकसभा चुनाव 2014 के दौरान था। यानी वे इस बार भी अकेले अपने दम पर विपक्ष में नहीं बैठ सकती । इसके लिए उन्हें सहयोगी दलों की जरूरत पड़ेगी। पिछले चुनाव में कांग्रेस ने जहां 44 सीटें प्राप्त की थी वहीं इस चुनाव में 52 के आंकड़ों का छुआ। जो विपक्ष में अकेले दम पर बैठने से 2 कम है। बहरहाल लोकसभा चुनाव 2014 के अपेक्षा राहुल ने इस चुनाव में 8 सीटें अधिक प्राप्त की है।

बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के इस्तीफे की पेशकश के बाद कांग्रेस के कई नेताओं ने भी हार की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफे की पेशकश की। जिसमें यूपी के कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर, ओडिशा के प्रदेश अध्यक्ष निरंजन पटनायक के नाम शामिल है।  

loading...