Breaking News
  • आज होंगे लोकसभा अध्यक्ष के चुनाव
  • चमकी बुखार को लेकर झारखंड और मध्य प्रदेश में अलर्ट, बिहार में मरनेवालों की संख्या 119 पार
  • WC 2019 : आज बर्मिंघम में भिड़ेंगे NZ और SA
  • 49 के हुए कांग्रेस के लाड़ले राहुल, पीएम मोदी ने दी बधाई

मोदी ने जो कहा, 10 प्रतिशत भी समझ गए तो, भारत का भाग्य बदलना तय

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 में मिली बंपर जीत के बाद शनिवार को संसद के केंद्रीय कक्ष में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग-NDA) के सभी सासंदों की बैठक हुई। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह समेत अन्य वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में हु एनडीए संसदीय दल की बैठक में नरेंद्र मोदी को पुन: संसदीय दल का नेता चुना गया। साथ ही एनडीए के सभी सांसदों ने मोदी गर्मजोशी के साथ मोदी का स्वागत किया। जिसके एवज में मोदी ने भी आभार प्रकट किया और खास कर पहली बार चुनाव जीतने वाले सदस्यों को मोदी ने विशेष शुभकामनाएं भी दी।

संसद के सेंट्रल हॉल में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मोदी ने जनता के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि, सेंट्रल हॉल की आज ये घटना असामान्य घटना है। हम आज नए भारत के हमारे संकल्प को एक नई ऊर्जा के साथ आगे बढ़ाने के लिए एक नई यात्रा को यहां से आगे बढ़ाने वाले हैं। देश की राजनीति ने जो बदलाव आया है, आप सभी ने इसका नेतृत्व किया है। आप सभी अभिनंदन के आभारी हैं। लेकिन जो सदस्य पहली बार चुनकर आए हैं वे विशेष अभिनंदन के आभारी हैं।

मोदी ने कहा कि, एनडीए के सभी वरिष्ट साथियों ने मुझे आशीर्वाद दिया है। आप सबने मुझे नेता के रूप में चुना है। मैं इसे व्यवस्था का हिस्सा मानता हूं। मैं भी आपमें से एक हूं। आपके बराबर हूं। हमें कंधे से कंधा मिलाकर चलना है। आम तौर पर कहा जाता है कि चुनाव बांट देता है, दूरियां पैदा करता है, दीवार बना देता है। लेकिन 2019 के चुनाव ने दीवारों को तोड़ने का काम किया है। इस चुनाव ने दिलों को जोड़ने काम किया है। ये चुनाव सामाजिक एकता का आंदोलन बन गया है। 2014 से 2019 तक देश हमारे साथ चला है, कभी-कभी हमसे दो कदम आगे चला है, इस दौरान देश ने हमारे साथ भागीदारी की है।

उन्होंने कहा कि, भारत में तो चुनाव अपने आप में उत्सव था, मतदान भी अनेक रंगों से भरा था। लेकिन विजयोत्सव उससे भी अधिक शानदार था। देश के साथ विश्वभर के भारत प्रेमियों ने इस विजयोत्सव में हिस्सा लिया है। ये हमारे लिए गर्व की बात है। ये चुनाव कितना बड़ा और व्यापक होता है इसकी व्यवस्थाएं कितनी होती हैं, ये विश्व के लिए बहुत बड़ा अजूबा है। इस काम को चुनाव आयोग ने, राज्यों के चुनाव आयोग ने, सरकारी मुलाजिम, सुरक्षा बल इन सब की एक कठोर परिश्रम का एक कालखंड होता है।

मोदी ने कहा कि, भारत के लोकतंत्र को हमें समझना होगा। भारत का मतदाता, भारत के नागरिक के नीर, क्षीर, विवेक को किसी मापदंड से मापा नहीं जा सकता है। हम कह सकते हैं सत्ता का रुतबा भारत के मतदाता को कभी प्रभावित नहीं करता है। सत्ताभाव भारत का मतदाता कभी स्वीकार नहीं करता है। इसके साथ ही मोदी ने सभी सदस्यों को समझाने-बुझाने के साथ-साथ चेतवानी भी दी। उन्होंने कहा कि जनता ने हमे पहले से अधिक समर्थन के साथ देश की कमान सौंपी है। हमें जनता की आकांक्षाओं पर खरा उतरना है।

विवादित बयान देने वाले नेताओं को नसीहत देते हुए मोदी ने कहा कि कुछ भी कहने से पहले विचार जरूर करें। क्योंकि 1 मिनट की बात के लिए 48 घंटे तक परेशानी झेलनी पड़ती है। उन्होंने उन नेताओं को भी नसीहत दी जो टीवी स्क्रीन और अखबारों में अपनी तस्वीर के लिए लालायित रहते हैं। 

loading...