Breaking News
  • उत्तराखंड के उत्तरकाशी में सड़क हादसा, 14 की मौत, 13 अन्य घायल
  • हरियाणा में पीएम मोदी, कुंडली-मानेसर-पलवल वेस्टर्न एक्सप्रेस-वे और बल्लभगढ़ मेट्रो लिंक का उद्घाटन
  • विश्व शौचालय दिवस: हर साल 19 नवंबर को मनाया जाता है

श्री लंका में अशांति , विक्रमसिंघे ने कहा, “ हो सकता है खूनी संघर्ष”

कोलंबो : प्रधानमंत्री विक्रमसिंघे को राष्ट्रपति मैतरीपाल सीरिसेना द्वारा सत्ता से बेदखल करने के बाद श्री लंका की स्थिति लगातार खराब बनी हुई है। सूत्रों के अनुसार सीरिसेना ने देश के कानून को ताख पर रख कर महिंदा राजपक्षे को प्रधानमंत्री की कुर्सी पर काबिज किया। जिसके बाद श्री लंका में अशांति की स्थिति उत्पन्न हो गई है। वहीं श्री लंका के बर्खास्त प्रधानमंत्री ने देश में संवैधानिक मूल्यों की रक्षा नहीं होने पर खूनी संघर्ष की चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि अगर आनेवाले दिनों में संसद संवैधानिक संकट को समाप्त नहीं करती है तो देश को खूनी संघर्ष झेलने से कोई नहीं रोक सकता। उन्होंने एएफपी को दिए इंटरव्यू में कहा कि देश में खून की नदियां भी बह सकती हैं। कुछ निराश और गुस्से से भरे हुए लोग हिंद महासागर के क्षेत्र में उपद्रव फैलाने की कोशिश कर रहे हैं।

पीएम मोदी ने लगाया विपक्ष पर झूठ फैलाने का आरोप, कहा मुंह खोलते ही...

आपको बता दें कि पद से बर्खास्त किए जाने के बाद से विक्रमसिंघे प्रधानमंत्री आवास में ही रह रहे हैं और उनके घर के बाहर हजारों की संख्या में समर्थक जुटे हैं। बता दे कि 69 साल के विक्रमसिंघे को राष्ट्रपति मैतरीपाला सिरिसेना ने 26 अक्टूबर को प्रधानमंत्री पद से बर्खास्त कर, उनके स्थान पर महिंदा राजपक्षे को देश का नया पीएम नियुक्त किया है। राष्ट्रपति के पद से बर्खास्त करने के बाद भी विक्रमसिंघे ने प्रधानमंत्री आवास नहीं छोड़ा है। विक्रमसिंघे ने राष्ट्रपति के आदेश को अंसवैधानिक बताते हुए पद से हटने से साफ इनकार कर दिया है।

अमेरिका ने दिया भारत को झटका, लगाया 50 वस्तुओं पर शुल्क, कहा...

आपको बता दें कि श्री लंका के राष्ट्रपति सिरिसेना ने संसद भी भंग कर दी है और सत्ता संघर्ष में अब तक एक व्यक्ति की गोली लगने से मौत हो चुकी है। विक्रमसिंघे ने कहा कि मैं अपने समर्थकों से अपील करता हूं कि वे शांति बनाए रखें और हिंसक विद्रोह का रास्ता न अपनाएं। हालांकि, परिस्थितियां अगर बिगड़ीं तो समर्थकों का धैर्य भी टूट सकता है।

PoK के रास्ते भारत को घेरना चाहती है चीन, भारत ने जताया कड़ा विरोध

loading...