Breaking News
  • उत्तराखंड के उत्तरकाशी में सड़क हादसा, 14 की मौत, 13 अन्य घायल
  • हरियाणा में पीएम मोदी, कुंडली-मानेसर-पलवल वेस्टर्न एक्सप्रेस-वे और बल्लभगढ़ मेट्रो लिंक का उद्घाटन
  • विश्व शौचालय दिवस: हर साल 19 नवंबर को मनाया जाता है

रोज की पूजा में न करें ये छोटी-छोटी गलतियां

धर्म चाहे किसी का कोई भी हो, रोज पूजा-पाठ को अनिवार्य बताया गया है। वहीं हिंदू धर्म में कार्तिक माह आता है जिसमें पूजा-पाठ और त्योहार अधिक होते हैं।

इस महीने को धार्मिक कार्यों के लिए शुभ बताया गया है। कोई भी व्यक्ति हो उसे सुबह शाम ईश्वर का ध्यान अवश्य करना चाहिए। इसलिए अधिकतर परिवारों में रोज सुबह-शाम भगवान की पूजा की जाती है। रोजाना पूजा के नियम ऐसे हैं, जिनके बारे में कम हो लोग जानते हैं। इन नियमों को जानें और पूजा-पाठ में कोई गलती न हो, इसीलिए जानें कुछ नियम...

पूजा के नियम

•  मंदिर में कोई भी खंडित मूर्ति न रखें। अगर कोई मूर्ति टूटी हुई है तो उसे बहते जल में प्रवाहित कर दें।

•  मंदिर हमेशा साफ-सुथरा रखें। ताजी फूल-पत्त्यिों से सजाएं और गंगाजल छिड़के।

•  गंगाजल, तुलसी के पत्ते, बिल्वपत्र और कमल, ये चारों बासी नहीं होते। इसलिए इनका उपयोग पूजा में कभी भी किया जा सकता है।

•  शिवजी को केतकी के फूल, सूर्यदेव को अगस्त्य के फूल न चढ़ाएं।

•  भगवान श्री गणेश की पूजा तुलसी के पत्ते वर्जित माने गए हैं। इसलिए कभी भी भगवान गणेश को तुलसी के पत्ते न चढ़ाएं।

•  जो व्यक्ति बिना स्नान किए फूल या तुलसी के पत्ते तोड़ देवताओं को अर्पित करता है, उसकी पूजा देवता ग्रहण नहीं करते।

•  पूजा में शुद्ध घी का दीपक अपनी बांई ओर व तेल का दीपक अपनी दाईं ओर रखना चाहिए। दीपक स्वयं कभी नहीं बुझाना चाहिए।

•  भगवान शिव को शंख से जल नहीं चढ़ाना चाहिए। शास्त्रों के अनुसार ये दोनों काम शिव पूजा में निषेध हैं।

•  पूजा-पाठ हवन के बाद महिलाएं कभी भी नारियल न फोड़ें। हिंदू धर्म में महिलाओं का नारियल फोड़ना वर्जित है।

•  अगर तुलसी को रोजाना दीपक जलाते हैं तो इस नियम को हमेशा बनाए रखें। रविवार के दिन तुलसी को दीपक न जलाएं।

 

loading...